अफसर बनने की तमन्ना ले पलामू की बिटीया ने भी जेपीएसी परीक्षा में मारी बाजी

0
7
  • अफसर बनने की तमन्ना ले पलामू की बिटीया ने भी जेपीएसी परीक्षा में मारी बाजी
 स्नेहा पाण्डेय, हुसैनाबाद। ज़िले के हुसैनाबाद अनुमंडल के हार्वे मध्य विद्यालय की सहायक शक्षिका किरण बाला की पुत्री निकिता बाला ने झारखंड पब्लिक सेवा कमिशन पास कर हुसैनाबाद अनुमंडल सहित पलामू जिला का नाम रौशन की है।
निकिता बाला झारखंड सीविल परीक्षा की तैयारी लगातार कई वर्षों से की और चौथी व पांचवी जेपीएसी परीक्षा में उतीर्ण हुई थी किंतु साक्षात्कार में नहीं सफल हो सकी। निकिता ने बताया कि हौसला बुलंद है तो सफलता जरूर कदम चुमेगी। निकिता ने कहा कि 6ठी बार हौसले के साथ जेपीएसी की परीक्षा अफसर बिटीया की ख्वाब देख पुनः उतीर्ण हुई हूं।
 निकिता की मां किरण बाला ने भी अपनी बिटीया को अफसर बनाने के ख्वाब में उसके हौसला  अफजायी कर उच्च मुकाम पर पहुंचाने का तमन्ना संजोए थी। जो बेटी ने कर दिखाया।
 निकिता के पिता बेंजामिन किंडो है जो दिसम्बर 2019 में अवकाश ग्रहण किये हैं। बेंजामिन किंडो जैप रांची में डीएसपी के पद पर भी रह चुके हैं। 1990 के दशक में निकिता के पिता जपला थाना में भी एसआई के पद पर थे। वे बिहार के नबीनगर में पुलिस निरीक्षक थे। निकिता सन् 2005 में हार्वे उच्च विद्यालय से प्रथम श्रेणी में मैट्रिक की परीक्ष उतरीण की। जबकि 2010 में संत जैवियर काॅलेज रांची से स्नातक इतिहास विशय में उतीर्ण हुई है।
निकिता का प्रारम्भिक दौर से ही सपना था कि वह अपने मां व पिता के सपने को साकार कर उच्चे मुकाम तक पहुंचे। जिसे निकिता ने कर दिखाया। जानकारी के अनुसार निकिता की मां किरण बाला का प्रारम्भिक शिक्षा हार्वे मध्य विद्यालय व हार्वे उच्च विद्यालय से हुई है। निकिता जपला सीमेंट फैक्ट्री स्थित मिस्त्री लाईन में एक क्वाटर में रहकर जीवन व्यतित की है।
निकिता के नाना जाॅन साहेब के नाम से प्रचलित थे। जो जपला सीमेंट फैक्ट्री के ट्रांसपोर्ट डिर्पाटमेंट में स्थायी ड्राईवर थे। प्रायः जाॅन साहेब जपला देवरी के बीच जपला सीमेंट फैक्ट्री के बस में ड्राईवर के कार्य किया करते थे। वे कभी-कभी सीमेंट फैक्ट्री का डंफर भी चलाते थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here